Categories
Articles

Tally क्या है और कैसे सीखें हिंदी में जानकारी

आप एक नौकरीपेशा व्यक्ति हैं और ऑफिस में कंप्यूटर का इस्तेमाल कंपनी के डेटा को मैनेज करने के लिए करते हैं तो सम्भव है कि आप Tally का इस्तेमाल जरूर करते होंगे?

यदि आप नहीं जानते कि Tally क्या है? तो घबराने की बात नहीं है क्योंकि आज के इस लेख में हम टेली के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त करेंगे. तथा समझेंगे कि वर्तमान समय में टेली का महत्व किस प्रकार बढ़ चुका है.

किसी भी व्यवसाय में एकाउंट (खाता-बही) का विशेष महत्व होता है. परन्तु आज से कई वर्ष पूर्व बैंक, निजी कंपनी, सरकारी कार्यालयों आदि  में व्यापारिक लेन-देन, धन के संग्रह, वस्तुओं पर किये खर्च तथा कर आदि के रिकॉर्ड को दर्ज करने के लिए अनेक दस्तावेजो को एकत्रित किया जाता था. जिसमे इन रिकॉर्ड को व्यवस्थापित करने तथा देखभाल में न सिर्फ अधिक समय खर्च होता था. बल्कि हर साल इन दस्तावेजों के लिए उपयोग किये गए पत्रों के लिए किये बड़ी मात्रा में वनों का कटाव होता था.

परन्तु आज स्थिति भिन्न है! आज कंप्यूटर के इस युग में अनेक कार्यो को सरलता तथा तेजी से किया जा सकता है तथा वर्तमान समय में सरकारी कार्यालयों, बैंकों, निजी कंपनियों में अकाउंटिंग के कार्यो के लिए टेली का उपयोग किया जाता है.

टेली की अनेक विशेषताओ के कारण आज टेली का उपयोग दुनिया भर में विभिन्न MNC कंपनियों में किया जाता है. इसलिए हमारे लिए भी टेली की जानकारी होना जरूरी है. चलिए जानते है कि ये टेली क्या होती हैं?


टेली क्या है – What is Tally in Hindi?

Tally Kya hai in Hindi
Tally क्या हैं?

Tally एक एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है. जिसका इस्तेमाल आमतौर पर व्यापार में कंपनी के वित्तीय भुगतानों की गणना हेतु किया जाता है. Tally का उपयोग किसी कंपनी में माल के स्टॉक को व्यस्थापित करने (Managed), माल पर किये गए व्यय तथा उत्पाद से जुड़ी जानकारी टैली के अंतर्गत संरक्षित की जा सकती है.

सरल शब्दों में Tally को समझा जाए तो Tally का मुख्य कार्य किसी कंपनी के खाते को व्यवस्थित करना होता है. जिसमें आय-व्यय, नगद-उधार , भुगतान की गई राशि तथा बैंक के विभिन्न खातों का रिकॉर्ड उपलब्ध होता है.

Tally सॉफ्टवेयर को Tally Solution Pvt. Ltd.  बहुराष्ट्रीय कंपनी (Multinational Company) द्वारा निर्मित किया गया है. जिसका मुख्यालय बंगलोर में स्थित है तथा Tally कई वर्षों से एक प्रसिद्ध Accounting Software के रूप में लोगों की पहली पसंद रहा है. जिस वजह से अब तक Tally का इस्तेमाल 10 लाख से अधिक बिजनेस कर चुके हैं.


टेली सॉफ्टवेयर की उपयोगिता तथा विशेषताएं

  • पुरानी बही खाता प्रणाली का स्थान Tally सॉफ्टवेयर ने लिया है. जिससे समय, धन तथा ऊर्जा दोनों की बचत हुई है.
  • यूजर फ्रेंडली तथा सरलतम उपयोग के कारण Tally का इस्तेमाल बैंकों, ऑडिटर्स, चार्टेड अकाउंटेंट जैसे विभिन्न वित्तीय स्थानों के साथ ही छोटे स्तर के व्यापार में उपयोग होता है.
  • पारंपरिक खाता व्यवस्थित प्रणाली में कॉपी, डायरी आदि में पेन-पेंसिल की मदद से खाते का रिकॉर्ड व्यवस्थित किया जाता था. जिसे हम “कागज़ी रिकॉर्ड” भी कह सकते हैं. परन्तु आज कंप्यूटर के इस युग में Tally सॉफ्टवेयर की मदद से कॉलम, ग्राफ तथा इनबिल्ट कैलकुलेटर से एकाउंट को तैयार करना (प्रबंधन कार्य) सरल हो गया है.
  • Tally में व्यवस्थित डेटा को लंबे समय तक सहेजना आसान है तथा उस डेटा को अन्य व्यक्ति या कंपनी के साथ साझा करने में भी आसानी होती थी.
  • इस सॉफ्टवेयर में पुरानी एकाउंटिंग प्रणाली के मुक़ाबले अनेक सुविधाएं मौजूद हैं, जिसमें डेटा को सुरक्षित रखने के लिए फ़ाइल में लॉक लगा सकते हैं.
  • अकाउंटिंग में Tally के इस्तेमाल से गणितीय त्रुटियों से बचा जा सकता है. जिससे यह व्यापार के प्रबंधन में मदद करता है. जहाँ बहुत अधिक लेखांकन एवं गणना की आवश्यकता होती है.

टेली सॉफ्टवेयर का इतिहास – Tally History in Hindi?

Tally सॉफ्टवेयर को वर्ष 1981 में श्याम सुंदर गोयनका तथा उनके पुत्र भारत गोयनका द्वारा तैयार किया गया था.

इस अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर के तैयार करने के पीछे एक मुख्य उद्देश्य यह था कि उस समय श्याम सुंदर गोयनका एक कंपनी के मालिक थे. यह कंपनी प्लांट तथा टैक्सटाइल मिलों के कच्चे माल तथा मशीनों के पुर्जो  की आपूर्ति करती थी. उस दौरान श्याम सुंदर जी एक ऐसा सॉफ्टवेयर की तलाश में थे जो उनकी कंपनी में एकाउंटिंग के कार्यो को पूरा कर सके.

उसके बाद उन्होंने अपने पुत्र भारत गोयनका के साथ सॉफ्टवेयर के विचार को साझा किया. भारत गोयनका जिन्होंने गणित में स्नातक (Math Graduate) शिक्षा प्राप्त की थी. उनके पिता ने उन्हें ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने के लिए कहा जो उनकी कंपनी में वित्तीय कार्यों का प्रबंधन कर सके.

इस प्रकार अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर का पहला वर्जन लॉन्च किया. हालाँकि यह MS-DOS एप्लीकेशन के रूप में कार्य करता था. इस Version को “प्युट्रॉनिक्स” नाम दिया गया जिसमें केवल कुछ सीमित फ़ीचर्स ही मौजूद थे.

वर्ष 1999 में कंपनी ने इस नाम को औपचारिक रूप से बदलकर Tally Solutions रख दिया. वर्ष 2006 में कंपनी ने Tally 8.1 तथा Tally 9 Version लॉन्च किए गए. 2009 में Tally Solution ने Tally ERP 9 बिज़नेस मैनेजमेंट सोलुशन के रूप में लॉन्च किया.

साल 2015 में Tally Solution ने टैक्सेशन तथा कंप्लायंस फ़ीचर्स के साथ Tally ERP 9 5.0 Version लॉन्च किया. तथा हाल ही में कंपनी द्वारा अपडेटेड GST (गुड्स एंड सर्विस टेक्स्ट) अनुपालन सॉफ्टवेयर लॉन्च हैं.


 टेली सॉफ़्टवेयर के मुख्य फ़ीचर्स – Key Features of Tally in Hindi?

  • Tally मल्टी-यूज़र सॉफ्टवेयर है अर्थात एक Tally सॉफ्टवेयर में कई यूजर्स काम कर सकते हैं. जिससे नए यूज़र को किसी विशेष कंप्यूटर सिस्टम की आवश्यकता नहीं होती है.
  • टेली सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी तथा इस सॉफ्टवेयर की कार्य-प्रणाली को सीखने के बाद कोई भी व्यक्ति किसी कंपनी में अकाउंटिंग कार्य हेतु नौकरी के लिए आवेदन कर सकता है अर्थात विद्यार्थी भी बिना ग्रेजुएशन की डिग्री के टैली सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • इस क्षेत्र ने कई प्रकार फ्रीलॉसिंग जॉब लोगों को उपलब्ध करने में मदद की है. फाइनेंस मैनेजर, फाइनेंस एडवाइजर, पब्लिक अकाउंटेंट आदि और आजकल लगभग सभी कंपनियों को एक अकाउंटेंट की आवश्यकता होती है जो उचित रूप से खातों को चला सकें.
  • टेली Easy-to-Use सॉफ्टवेयर है. टैली सॉफ्टवेयर को इस तरह से डिजाइन तथा विकसित किया गया है जिससे दैनिक जीवन में तथा बिजनेस में वित्तीय क्रियाकलापों को व्यवस्थित किया जा सके.
  • अधिकतर कंपनियां पैसों के लेन देन का रिकॉर्ड रखने के लिए टैली सॉफ्टवेयर का उपयोग करती हैं, जिससे जाहिर होता है कि आने वाले समय में Tally की मांग बढ़ती ही जाएगी.

इस प्रकार के अनेक महत्वपूर्ण एकाउंटिंग फ़ीचर्स Tally सॉफ्टवेयर में होते हैं. तथा प्रत्येक नए वर्जन के साथ Tally के फ़ीचर्स भी अपग्रेड होते रहते हैं.

यदि आप वास्तविक जीवन में इन सभी फीचर्स का फायदा लेना चाहते है तो आपको खुद टेली सॉफ़्टवेयर पर हाथ आजमाने होंगे अर्थात टेली सीखना पडेग़ा.

आइए अब जानते है कि टेली कैसे सीखते हैं – How to Learn Tally in Hindi?

#1 Tally Course जॉइन करें

Tally सीखने के लिए आप अपने आसपास किसी अच्छे कम्प्यूटर शिक्षण संस्थान में जा सकते हैं तथा मासिक शुल्क के आधार पर टेली के नये संस्करण की कार्य प्रणाली की पूरी जानकारी ले सकते हैं.

इन संस्थानों का फायदा यह रहता है आपको प्रैक्टिकल करने के लिए कम्प्यूटर तथा सॉफ्टवेयर मिल जाता है. आपको सीखने के लिए टेली सॉफ़्टवेयर खरिदना नही पड़ता.

आप टेली कोर्स को स्कूल/कॉलेज के बाद जॉइन करके टेली अकाउंटिंग का कोर्स जॉइन कर लें. आपकी रेगुलर पढ़ाई भी चलती रहती है और आप अतिरिक्त स्किल भी सीखते रहते हैं.

कॉमर्स स्टुडेंट्स के लिए तो टेली सीखना बहुत ही जरूरी है क्योंकि इनका आधार यानि Accounting Entries सीखने में दिक्कत नहीं आती है. क्योंकि, इन्हे तो यह पहले ही क्लास में सीख चुके होते हैं.

अन्य स्ट्रीम के स्टुडेंट्स को टेली सीखने में थोड़ी दिक्कत आती है. उन्हे यह समस्या अकाउंट विषय नहीं पढ़ने के कारण आती है. लेकिन, टेली टीचर ऐसे स्टुडेंट्स के लिए स्पेशल एंट्री क्लास लगाते है.

इसलिए आप टेली सीखने के लिए अपने आसपास किसी कम्प्यूटर संस्थान में एडमिशन लेकर टेली सीख सकते हैं.

#2 Tally Education Certified कोर्स करें

टेली सॉल्युशन द्वारा टेली सिखाने की व्यवस्था भी की गई है. यदि आसपास टेली सॉल्युशन द्वारा सर्टिफाइड संस्थान है तो आप यहां से भी टेली कोर्स में एडमिशन लेकर टेली अकाउंटिंग सीख सकते है.

टेली अकाउंटिंग कोर्स टेली एजुकेशन द्वारा करवाया जाता है और कोर्स पूरा होने पर सर्टिफिकेट भी जारी किया जाता है. जिसका इस्तेमाल आप टेली जॉब लेने के लिए कर सकते है और भावी एम्पलोयर को अपनी टेली अकाउंटिंग साबित कर सकते है.

टेली सीखने के कुछ फायदें

  • आपको विभिन्न करियर विकल्प मिलते हैं
  • जीएसटी युक्त टेली सीखाई जाती है
  • यह टेली कोर्स टेली बनाने वालों द्वारा विकसित किया गया है 
  • टेली जॉब पोर्टल की एक्सेस मिल जाती है 
  • सर्टिफिकेट को डिजिटल वेरिफाई किया जा सकता है 
  • इंडस्ट्री में मान्य है
  • ऑनलाइन मूल्यांकन सुविधा मिलती है

#3 इंटरनेट से सीखें

इसके अलावा आप बिना पैसे खर्च किए टेली सॉफ्टवेयर को सीखना चाहते हैं तो आप आसानी से ऐसा कर सकते हैं.

जी हाँ!

आज इंटरनेट में गूगल तथा यूट्यूब जैसे प्लेटफार्म पर Tally से संबंधित कई ऑनलाइन ट्यूटोरियल्स मौजूद है. हाँ आप सरल भाषा में टेली सॉफ्टवेयर के फीचर्स तथा उनके उपयोग की जानकारी सीख है.

इन माध्यमों से सीखी गई टेली को मान्यता नहीं मिलती है. लेकिन, आप अपनी स्किल सुधारने तथा बढ़ाने के लिए इस माध्य्म का उपयोग कर सकते हैं.


आपने क्या सीखा?

इस लेख में हमने आपको टेली सॉफ़्टवेयर की पूरी जानकारी दी हैं. आपने जाना कि टेली क्या होती हैं? टेली के कुछ मुख्य फीचर्स तथा टेली कैसे सीखते है? इन सभी के बारे में जाना है. हमे उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हे भी टेलि के बारे में जानकारी मिल जाएं. और कुछ समझ नहीं आया है या फिर कोई सवाल रह गय है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है.

#BeDigital

लेख आपको पसंद आया?
👍👎

By TP Staff

लेखक: TP Staff

TP Staff, TutorialPandit की कम्प्यूटर और टेक्नोलॉजी पेशेवरों की टीम है, जिसका नेतृत्व जी पी गौतम द्वारा किया जाता है. TutorialPandit के माध्यम से भारत देश में हर साल लाखों लोग फ्री डिजिटल शिक्षा ग्रहण कर रहे है.

9 replies on “Tally क्या है और कैसे सीखें हिंदी में जानकारी”

इस पोस्ट के लिए आपका धन्यबाद. dear user tally के इन shortcut key को भी पढ़ सकते है UNHIndi par.

Sir sikhne k baad job ka kya scope hai kahan job mil sakti hai hai kya bank me b iska kaam hai
???

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *