Categories
Articles

Linux क्या हैं पूरी जानकारी हिंदी में

क्या आपको पता है आपके स्मार्टफोन, कंप्यूटर तथा घर में इस्तेमाल होने वाले अनेक उपकरणों में Linux का इस्तेमाल होता है!

अब यदि आप सोच रहे हैं की आखिर Linux क्या है? हमारे गैजेट्स में Linux किस तरह कार्य करता है? तो आपको दिमाग पर ज्यादा जोर देने की कोई जरूरत नहीं हैं.

क्योंकि इस लेख में आपको लिन्क्स के बारे में पूरी जानकारी मिलने वाली हैं. और इसे पढकर आपके सभी सवालों के जवाब भी मिलने वाले हैं.

What is Linux Kya Hai in Hindi
Linux क्या हैं?

Linux क्या है – What is Linux in Hindi?

किसी भी कंप्यूटर मशीन को चालू करने पर सॉफ्टवेयर के रूप में सबसे पहला कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम का होता है. ऑपरेटिंग सिस्टम स्वयं कंप्यूटर मेमोरी में लोड होने के बाद कंप्यूटर में उपलब्ध सूचनाओं तथा डेटा के आधार पर मैनेज कर आगे निर्देश देता है.

Unix ऑपरेटिंग सिस्टम का एक प्रकार Linux OS है. जिस प्रकार Windows तथा Mac ऑपरेटिंग सिस्टम होते हैं.  उसी प्रकार Linux भी एक ऑपरेटिंग सिस्टम है. यह एक फ्री तथा ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है. जिसका मतलब है एक यूजर इंटरनेट पर मुफ्त में लिंक्स कोडिंग को मॉडिफाई कर कमर्शियल तथा निजी उपयोग में ले सकता है. इसमें वे सॉफ्टवेयर होते हैं जो Linux Kernel पर आधारित हैं.

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को वास्तविक रूप से पर्सनल कंप्यूटर के लिए विकसित किया गया था. लेकिन बाद में इस ऑपरेटिंग सिस्टम ने अनेक प्लेटफॉर्म मोबाइल, स्मार्ट टीवी, गेमिंग कंसोल यहाँ तक वाहनों में भी इसी ओपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है.

लिनक्स यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम की तरह ही मिलता-जुलता ओपरेटिंग सिस्टम है. इसके साथ ही इसका इस्तेमाल सर्वर तथा कंप्यूटर सिस्टम (मैनफ्रेम कम्प्युटर) डिवाइस में सबसे अधिक होता है.

आंकड़ों के अनुसार लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक मात्र OS है जिसे टॉप 500 सुपर कंप्यूटर में इस्तेमाल किया गया. कुल डेस्कटॉप कंप्यूटर के 2% से अधिक सिस्टम में लिनक्स का इस्तेमाल किया जाता है. यहाँ तक कि क्रोमबुक जिसका नाम शायद आपने जरूर सुन होगा. यह भी लिनक्स ओपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करता है.


लिनक्स का इतिहास – Linux History in Hindi?

ऑपरेटिंग सिस्टम की शुरूआत वर्ष 1991 में हुई उस समय Linux Torvalds  नामक छात्र ने अपने पर्सनल प्रोजेक्ट में फ्री ऑपरेटिंग सिस्टम Kernel  को तैयार किया. और Linux Kernel तब से लेकर अब तक निरंतर विकसित होता गया.

रोचक बात यह है कि उस समय उन्होंने इस प्रोग्राम को अपने कंप्यूटर के लिए तैयार किया था. और वह Unix 386 Intel कंप्यूटर खरीदना चाहते थे. लेकिन Linux अपनी आर्थिक स्थति के कारण उस कंप्यूटर को खरीदने में असमर्थ थे. इस तरह उनके द्वारा एक छोटे से प्रोग्राम ने विश्व के समक्ष Linux kernel को पेश किया.

उस दौरान कंप्यूटर्स काफी बड़े साइज के होते थे तथा उनके ऑपरेटिंग सिस्टम भी भिन्न प्रकार के होते थे. आप समझ सकते हैं कि उन्हें ऑपरेट करना कितना मुश्किल होता होगा. इसके साथ ही प्रत्येक सॉफ्टवेयर को अलग-अलग उद्देश्य से तैयार किया जाता था तथा उस सॉफ्टवेयर को प्रत्येक कंप्यूटर पर उपयोग करना संभव नहीं था.


Windows तथा Linux ओपरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है?

  • Windows में C, D, E ड्राइव जिनमें अनेक फोल्डर होते हैं परंतु दूसरी ओर लिनक्स में कोई ड्राइव नहीं होती.
  • विंडोज सिस्टम में हम किसी फोल्डर में एक नाम से दो फ़ाइल को स्टोर नहीं कर सकते बल्कि Linux ऑपरेटिंग सिस्टम में 2 फाइल को एक फोल्डर में सेव किया जा सकता है.
  • Windows ऑपरेटिंग सिस्टम में Guest, Standard, Administrator समेत कुल तीन एकाउंट होते हैं जबकि दूसरी तरफ रेगुलर, रुट तथा सर्विस एकाउंट Linux सिस्टम के एकाउंट टाइप है.
  • Linux सिस्टम में ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर कार्य करते हैं, जबकि विंडॉज में Closed Source सॉफ्टवेयर कार्य करते हैं.
  • Windows ऑपरेटिंग सिस्टम सिंगल-यूजर के लिए होता है जबकि Linux सिस्टम मल्टि-यूजर होता है.
  • Linux ऑपरेटिंग सिस्टम को Windows की तुलना में अधिक सुरक्षित OS माना जाता हैं क्योंकि इनमें वायरस हमले के अवसर निम्न होते हैं.
  • हालाँकि विंडॉज सिस्टम के सरलतम उपयोग तथा अधिक फ़ीचर्स के कारण अधिकतर यूज़र्स विंडॉज ओपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते हैं.

Linux ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएँ

  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह जानना है कि Linux ऑपरेटिंग सिस्टम लगभग सभी विंडॉज की तुलना में यह वायरस से मुक्त होता है. स्पाइवेयर, ट्रॉजन, एडवेयर आदि वायरस अटैक लिनक्स ऑएस में समान्यतः नहीं होते. जिस वजह से इसे सबसे अधिक सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम माना जाता है.
  • विंडॉज ऑपरेटिंग सिस्टम के मुक़ाबले Linux मुफ्त तथा काफी सस्ते होते हैं. Linux के Variants तथा वर्जन कई महीनों, सालों तक ‘रीबूट’ किये बिना चल सकते हैं
  • लिनक्स ओएस में अधिकतर गेम्स फ्री या ओपन सोर्स होते हैं. ओपन ऑफिस, स्टार ऑफिस जैसे प्रोग्राम लिनक्स ओएस में फ्री होते हैं.
  • चूँकि अधिकतर Linux प्रोग्राम तथा वैरिएंट्स ओपन सोर्स होते हैं जिस वजह से यूज़र आवश्यकतानुसार कोडिंग कर सकता है.
  • लिनक्स ओएस का इस्तेमाल घरों, विद्यालयों तथा विभिन्न कंपनियों में होता है. क्योंकि हमेशा से ही Linux को सबसे सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम माना गया है.
  • लिनक्स ओएस को खरीदने के लिए किसी भी तरह की लाइसेंस की की आवश्यकता नहीं होती. तथा विंडॉज की तरह ही सभी एप्लीकेशन का इस्तेमाल Linux में आसानी से किया जा सकता है.
  • लिनक्स काफी सशक्त होता है अर्थात इसके क्रैश होने की सम्भावनाएं निम्न होती हैं तथा क्रैश होने की स्थति में भी सिस्टम पूरी तरह डाउन नहीं होता. साथ ही यूजर को मैलवेयर से भी सुरक्षित रखता है.

लिनक्स के नकारात्मक प्रभाव

  • हालांकि लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम ओपन सोर्स होने के कारण यूजर अपने अनुसार कस्टमाइज कर सकता है. परंतु आज भी नॉन टेक्निकल व्यक्ति के लिए लिनक्स का इस्तेमाल करना विंडोज से कहीं ज्यादा कठिन होता है.
  • लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में काफी बड़ी मात्रा में सॉफ्टवेयर प्रोग्राम पाए जाते हैं परंतु विंडोज की तुलना में प्रोग्राम इंस्टॉलेशन करना कठिन होता है.
  • यहां आप को समझना होगा कि विंडोज की तुलना में लिनेक्स ने मार्केट में कम लोकप्रियता हासिल की जिस वजह से आपको मन मुताबिक प्रोग्राम आमतौर पर देखने को नहीं मिलते. आमतौर पर देखा गया है कि लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में प्रिंटर तथा ब्लू रे डिस्क को कनेक्ट करना आसान नहीं रहता.
  • लिनक्स विंडोज तथा मेक ऑपरेटिंग सिस्टम की तरह इस्तेमाल करना आसान नहीं रहता क्योंकि इसमें टेक्निकल ज्ञान की आवश्यकता होती है खासकर बिगनर्स को लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते समय परेशानी होती है. अतः आपको लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने से पूर्व कहीं चीजें का ज्ञान होना जरूरी होता है.
  • लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में कई तरह के प्रोग्राम्स कार्य नहीं करते तथा लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में निम्न मात्रा में कंप्यूटर हार्डवेयर सपोर्ट करते हैं साथ ही सभी ड्राइवर लिनक्स ओएस को सपोर्ट नहीं करते.

आपने क्या सीखा?

इस लेख में हमने आपको लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम की पूरी जानकारी दी हैं. आपने जाना कि लिनक्स क्या होता हैं? इसका उपयोग कैसे किया जाता हैं? लिनक्स के फायदे-नुकसान आदि के बारे में विस्तार से जाना हैं. हमे उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

#BeDigital

लेख आपको पसंद आया?
👍👎

By TP Staff

लेखक: TP Staff

TP Staff, TutorialPandit की कम्प्यूटर और टेक्नोलॉजी पेशेवरों की टीम है, जिसका नेतृत्व जी पी गौतम द्वारा किया जाता है. TutorialPandit के माध्यम से भारत देश में हर साल लाखों लोग फ्री डिजिटल शिक्षा ग्रहण कर रहे है.

4 replies on “Linux क्या हैं पूरी जानकारी हिंदी में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *